Skip to main content

भूलना उसने सिखाया : मनोज कुमार झा की नई कविताएं


Anna Medvedeva
प्रस्थान

लुप्त होना दुश्य से
घर ने सिखाया मुझको

भयातुर छिपकलियों का पूंछ फेंकना
मैने के बच्चों का बसाना दूर बसेरा

एक चित्र की जगह दूसरा चित्र
भूल जाना दीवार का रंग पुराना
पुरानी रेडियो बेचकर बिस्कुट खरीदना
कुएं का भर जाना कबाड़ से
ये सब घर ने दिखाये

घर भूल चुका है उस मुँहदुब्बर बच्चे को
मगर मैं लौटूँगा कभी किसी घिस रही शाम में
घर को याद दिलाने
कि भूलना सिखाया उसने।
***

Bato Dugarzhapov
 सख्त रेखाएं 

कल क्या होगा
जरा भी पता नहीं
यह जुमला एक नक्शा भर है किसी उठने  वाले भवन का
कुछ लकीरें मात्र जिस पर झोपड़ी कैसे बैठेगी यह अनिशिचत
ठोस कहें तो ऐसे कहें कि कल के खाने का भरोसा वहीं
फिर यह एक दरवाज़ा बन जाएगा उस घर का
जहां रात का रंग फट जाता है सुबह के घंटों पहले।

कल क्या होगा पता नहीं
एक ठूंठ वृक्ष फकत
है दरख्त जिस पर पत्ते नहीं, फूल नहीं और काँटे भी नहीं
उसे देखो जिसने कहा कि आसमान होगा या छप्पर पता नहीं
तब जानोगे कि क्या होता है बरसते काँटों के बीच चलना।
***

Aimn Halabi

 अजब अभागों का कुनबा

अशुद्ध उच्चारणों ने कई मित्र दिए
उनमें से एक तो अक्षरों को राख कहता है
पिट कर चुप जाने से भी कई साथी मिले
एक ने तो कहा कि लड़ाई बहुत वक्त माँगती है
और उतना वक्त नहीं होता अंधी माता के संतानों को
हममें से कइयों को जब प्रियों ने तजा
तो मूर्ख कहा और हमने बस इतना सोचा
कि उन्हें इंतजार करने का हुनर नहीं और हड़बड़ी की अजब लत
वर्ना उन्हें जानने की हूक उठती कि रात में जब नदियाँ रोती हैं
तो हम अभागे उसे कंधा देते हैं जिनसे वो दिनभर दुख सँभालती हैं।
***

Leon Akwadal
थकान के किसी और रंग में

अभी आप नाचकर निकले हैं
पवन तेज अभी देह की, रूधिर तेज
प्रकाश का थक्का माथे में घूम रहा
हम बातें करेंगे
किसी और दिन, किसी और सुबह, किसी शाम, किसी रात
जब नष्ट हो रहे प्रकाश बांधेंगे आपको अलग रंग में
जब थकान की झाँइयाँ हम एक ही इन्द्रधनुष से चुनेंगे ।
***

[ मनोज कुमार झा की अन्य कविताएं : यहाँ. ]

Comments

Manoj said…
सुंदर कविताएँ...
बेहतरीन कविताएँ...
Mrunalini said…
"एक चित्र की जगह दूसरा चित्र
भूल जाना दीवार का रंग पुराना
पुरानी रेडियो बेचकर बिस्कुट खरीदना"

~भूलना उसने सिखाया मुझको,
अब बस वही बात याद रखता हूँ...

सुन्दर रचना...सुभकामनाएं...
Neeraj Shukla said…
मनोज जी की सुगठित भाषा बहुत तेज असर करती है .इतनी बेहतरीन कवितायों के लिए बधाई !
मनोज झा हमारे समय के महत्वपूर्ण युवा कवि हैं जिनकी कविताओं में ताजगी देखते ही बनती है .एकदम से नए बिम्बों के सहारे जन और मन की बात को बड़े कलात्मक अंदाज में रखने की विशिष्टता उन्हें औरों से अलग करती है .आभार भाई अनुराग कि अपने इन तजि कविताओं को साझा किया .
neelotpal said…
सुंदर कविताएँ.
neelotpal said…
अशुद्ध उच्चारणों ने कई मित्र दिए...
उम्दा भाव सम्प्रेषण
सुन्दर कविताएँ.
Vipin Choudhary said…
hamesha kee tarah badhia kavitayen

Popular posts from this blog

गीत चतुर्वेदी : दिल के क़िस्से कहां नहीं होते

(अब से 'सबद' पर हर पंद्रह दिन में कवि-कथाकार गीत चतुर्वेदी का यह कॉलम प्रकाशित होगा.)



जब से मैंने लिखने की शुरुआत की है, अक्सर मैंने लोगों को यह कहते सुना है, 'गीत, तुममें लेखन की नैसर्गिक प्रतिभा है।' ज़ाहिर है, यह सुनकर मुझे ख़ुशी होती थी। मैं शुरू से ही काफ़ी पढ़ता था। बातचीत में पढ़ाई के ये संदर्भ अक्सर ही झलक जाते थे। मेरा आवागमन कई भाषाओं में रहा है। मैंने यह बहुत क़रीब से देखा है कि हमारे देश की कई भाषाओं में, उनके साहित्यिक माहौल में अधिक किताबें पढ़ने को अच्छा नहीं माना जाता। अतीत में, मुझसे कई अच्छे कवियों ने यह कहा है कि ज़्यादा पढ़ने से तुम अपनी मौलिकता खो दोगे, तुम दूसरे लेखकों से प्रभावित हो जाओगे। मैं उनकी बातों से न तब सहमत था, न अब।


बरसों बाद मेरी मुलाक़ात एक बौद्धिक युवती से हुई। उसने मेरा लिखा न के बराबर पढ़ा था, लेकिन वह मेरी प्रसिद्धि से परिचित थी और उसी नाते, हममें रोज़ बातें होने लगीं। हम लगभग रोज़ ही साथ लंच करते थे। कला, समाज और साहित्य पर तीखी बहसें करते थे। एक रोज़ उसने मुझसे कहा, 'तुम्हारी पूरी प्रतिभा, पूरा ज्ञान एक्वायर्ड है। तुम्हारा ज्…

ईरानी कविता : सबीर हका : अनुवाद - गीत चतुर्वेदी

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 10 : भुजंग, मेरा दोस्त

कई दिनों की लगन के बाद आज मैंने सौ साल पुराना वह फ्रेंच उपन्यास पढ़कर पूरा कर दिया। किताब का पूरा होना एक छोटी मृत्यु जैसा है। जीवन से ज़्यादा बहुरूपिया मृत्यु होती है। हम सबके पैदा होने का तरीक़ा एक है, लेकिन हमारे मरने के तरीक़े अलग-अलग होते हैं। इसीलिए किताब का पूरा होना हम सबको अलग-अलग अनुभूति से भरता है। मेरा मन अक्सर दुख की एक चादर ओढ़ लेता है। सोचता हूँ, किस बात का दुख होता है? किताब के पूरा होने का दुख? अपने बचे रह जाने का दुख? जिन चरित्रों से मैंने एक मैत्री कर ली, उनके पीछे छूट जाने का दुख? कथा का दुख? या मेरे भीतर सोये मेरे अपने दुख, जिन्हें किताब जगा देती है?
इंदुमति के मृत्यु-शोक से अज रोया था। उसे लिखनेवाले कालिदास रोये थे। उसे पढ़कर मैं क्यों रोता हूँ? क्या मेरे भीतर अज रहता है? कालिदास की कविता रहती है? मृत्यु का शोक रहता है?
हाँ, ये सब रहते हैं। इसीलिए तो, पढ़े व लिखे हुए शब्द, मेरी मिट्‌टी पर उगते हैं।
हमारा हृदय एक पिरामिड है। मरे हुए लोग अपने पूरे साज़ो-सामान के साथ इसमें सुरक्षित रहते हैं- उनके चेहरे नहीं बदलते, उनके कपड़े, गहने, किताबें, उनकी बातें, आदतें, उनके ठह…