Skip to main content

अम्बर रंजना पाण्डेय की नई कविताएं

 

राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय में दोपहर


मंच पर इधर से उधर
खिलखिलाता
दौड़ता हैं किशोर अभिनेत्रियों का झुंड
दोपहर दो का टाइम, देर है छः वाले
शो में
रिक्त है रंगशाला
सूख रही हैं कुर्सियों पर हैंडलूम की साड़ियाँ
डोल रहे कानों में भारी-भारी कुंडल
अरुण हैं ऊपर तक कान

एक की तो आँखें तक भर गई
हाय वह सुन्दर कर्ण-स्पर्शी नयन
कितने अरुण हो गए हैं।

कोई उतार दो उसके कर्णफूल
खोंस दो उनके बजाय कोई शिरीष का फूल
या मोगरा या चमेली और कुच्छ नहीं तो
आम्रमंजरी ही सही
अच्छा ऐसा करो खोंस दो वह मोरपंख
जल में डोब कर
तब थोड़े बड़े हो जायेंगे कर्ण छेद

लो आ गए निर्देशक जी, मच गई
हड़बड़ी, पच्चीस-छब्बीस बरस के युवा हैं
पर बहुत समझ है उन्हें रंगकला की

देखो कैसा अरुणाभ हो गया
उस अभिनेत्री का मुख जैसे कामदेव
रगड़ गए कपोल पर कुंकुम

बार-बार मूँचती नयन, फिर
खोलती है आधे-आधे
आप ही आप नाचते हैं निर्लज्ज
इन नयन संदूकों में बंद दो खोटे सिक्के

निर्देशक जी तो मग्न हैं पढ़ने
वसंतसेना का संवाद
विचित्र रंगशाला है भई

कौन है वसंतसेना और कौन-कौन पढ़ रहा
है उसका संवाद
और किसके मुख पर फूल आये हैं
कचनार के कुसुम, सुन कर मेघों का
गहन, गंभीर गुरु गर्जन

आवरण, कुर्सियों के कवर, मुख, अधर, कान
औढ़नियाँ, कंगन सब अरुण ही अरुण हैं यहाँ
जैसे पूरी रंगशाला किसी ने
निकाली हो डोब कर आलते की कटोरी से

जैसे जीवन हो, सच्च
रंगशाला बंधु जीवन ही है
यह मैं नहीं, कह गए हैं बड़े-बड़े कवि भी

और सुनो तुम क्या कोई विदूषक
हो भगवान
अहर्निश चतुर्याम रचते
रहते हो एक से बढ़कर एक हास्य के
ड्रामे ।
****

अभय होकर निभाई प्रीति

धजी धरी अर्थी के ऊपर दिखा
उसका मुख
शताब्दियों प्राचीन चंद्रमा सा नूतन।

मुझे क्षमा करना
कि चूका नहीं आँख ल़ड़ाने से
शव के ऊपर भी।

किंतु मैं क्या करता
मैं हाड़-चामर का चीकट जीव
मुझे गिरते कितनी अबेर लगती महाराज।

जबकि मेरे कंधे छिल चुके है अरथी ढोते ढोते
मेरे फेफड़ों में भरी है चिंरायध।
मेरे दुःख आधे भसम शव से दीठ है।

तब भी मैं नहीं साध पाया संयम
डोल गया कूप में डुलते डोल सरीखा

काँटे कँाटे उठते हैं शरीर में
जब भी कहता हूँ अपनी यह कथा

शव का मैंने किया बिस्तरा
चिता बनाई खाट
श्मशान मेरी हुई गृहस्थी
हुआ कपाल जल का लोटा

और ऐसे दसों दिसों से
काल से घिरकर
मैंने किया प्रेम 

मैं डरा नहीं प्रभु
और मैंने अभय होकर निभाई प्रीति।
****

[ [ अम्बर की अन्य कविताओं के लिए यहाँ आयें.
साथ में दी गई चित-कृति
फ्रीदा कालो की  है . ]

Comments

MUKESH MISHRA said…
अम्बर रंजना पाण्डेय की यह कविताएँ अपने लहजे के कारण हमें अपनी नियति के सम्मुख खड़ा कर देती हैं | जब द्धैध, संशय, अनास्था और आधुनिक जीवन की अर्थहीनता से गुजर कर कविता अपनी आस्था अर्जित करती भी है तो वह किसी पूर्वप्रदत्त आस्था की तरह मासूम नहीं रह पाती - वह एक आधुनिक मनुष्य के संशय से ग्रस्त रहती ही है |
दूसरी तो अद्धभुत है ..
Ashutosh Dubey said…
बिल्कुल अलग रंगत की कविताएं. नज़र रखना चाहिए इन पर. हालांकि यह कवि कुछ नटखट किस्म का प्रतीत होता है, इसकी कविताएं कई बार सुखद विस्मय से भर देती हैं.
Vipin Choudhary said…
azab, gazab aur nirali kavitayen dhanya ho maharaz
Umber Ranjana Pandey,

I have no small/big words to lavish any praise upon your verse, just wanted to say that I am glad to read your poetry always.......

Popular posts from this blog

गीत चतुर्वेदी : दिल के क़िस्से कहां नहीं होते

(अब से 'सबद' पर हर पंद्रह दिन में कवि-कथाकार गीत चतुर्वेदी का यह कॉलम प्रकाशित होगा.)



जब से मैंने लिखने की शुरुआत की है, अक्सर मैंने लोगों को यह कहते सुना है, 'गीत, तुममें लेखन की नैसर्गिक प्रतिभा है।' ज़ाहिर है, यह सुनकर मुझे ख़ुशी होती थी। मैं शुरू से ही काफ़ी पढ़ता था। बातचीत में पढ़ाई के ये संदर्भ अक्सर ही झलक जाते थे। मेरा आवागमन कई भाषाओं में रहा है। मैंने यह बहुत क़रीब से देखा है कि हमारे देश की कई भाषाओं में, उनके साहित्यिक माहौल में अधिक किताबें पढ़ने को अच्छा नहीं माना जाता। अतीत में, मुझसे कई अच्छे कवियों ने यह कहा है कि ज़्यादा पढ़ने से तुम अपनी मौलिकता खो दोगे, तुम दूसरे लेखकों से प्रभावित हो जाओगे। मैं उनकी बातों से न तब सहमत था, न अब।


बरसों बाद मेरी मुलाक़ात एक बौद्धिक युवती से हुई। उसने मेरा लिखा न के बराबर पढ़ा था, लेकिन वह मेरी प्रसिद्धि से परिचित थी और उसी नाते, हममें रोज़ बातें होने लगीं। हम लगभग रोज़ ही साथ लंच करते थे। कला, समाज और साहित्य पर तीखी बहसें करते थे। एक रोज़ उसने मुझसे कहा, 'तुम्हारी पूरी प्रतिभा, पूरा ज्ञान एक्वायर्ड है। तुम्हारा ज्…

ईरानी कविता : सबीर हका : अनुवाद - गीत चतुर्वेदी

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 10 : भुजंग, मेरा दोस्त

कई दिनों की लगन के बाद आज मैंने सौ साल पुराना वह फ्रेंच उपन्यास पढ़कर पूरा कर दिया। किताब का पूरा होना एक छोटी मृत्यु जैसा है। जीवन से ज़्यादा बहुरूपिया मृत्यु होती है। हम सबके पैदा होने का तरीक़ा एक है, लेकिन हमारे मरने के तरीक़े अलग-अलग होते हैं। इसीलिए किताब का पूरा होना हम सबको अलग-अलग अनुभूति से भरता है। मेरा मन अक्सर दुख की एक चादर ओढ़ लेता है। सोचता हूँ, किस बात का दुख होता है? किताब के पूरा होने का दुख? अपने बचे रह जाने का दुख? जिन चरित्रों से मैंने एक मैत्री कर ली, उनके पीछे छूट जाने का दुख? कथा का दुख? या मेरे भीतर सोये मेरे अपने दुख, जिन्हें किताब जगा देती है?
इंदुमति के मृत्यु-शोक से अज रोया था। उसे लिखनेवाले कालिदास रोये थे। उसे पढ़कर मैं क्यों रोता हूँ? क्या मेरे भीतर अज रहता है? कालिदास की कविता रहती है? मृत्यु का शोक रहता है?
हाँ, ये सब रहते हैं। इसीलिए तो, पढ़े व लिखे हुए शब्द, मेरी मिट्‌टी पर उगते हैं।
हमारा हृदय एक पिरामिड है। मरे हुए लोग अपने पूरे साज़ो-सामान के साथ इसमें सुरक्षित रहते हैं- उनके चेहरे नहीं बदलते, उनके कपड़े, गहने, किताबें, उनकी बातें, आदतें, उनके ठह…