सबद
vatsanurag.blogspot.com

मृत्यु ओर : काफ़्का



[ काफ़्का ने ये वाक्य मृत्यु ओर जाते हुए लिखे थे. बोलने की मनाहट के बीच. उन छोटी-छोटी स्लिप्स पर जो उनके और बाकी दुनिया के बीच एक पुल का काम करते थे. उन पुलों से होकर कोई मित्र आवाज़, स्पर्श या भूली-बिसरी बात भले उन तक आती रही, जीवन दूर भागता रहा. अपनी यातना और मरण में काफ़्का का अकेलापन, अवसाद और भय इन वाक्यों से झांकता है. उनके अभिन्न मैक्स ब्रॉड ने ऐसी अनेक स्याह-स्लिप्स को काफ़्का की डेथ-बेड से बटोर-नबेर कर उनकी मृत्यु के बाद इन्हें उनकी तमाम रचनाओं जितना महत्वपूर्ण मानकर ही छपवाया था. 'लेटर्स टू फ्रेंड्स, फैमिली एंड एडिटर्स' के अंतिम हिस्से में दिए गए इस चयन से क्रम-भंग कर कुछ वाक्य यहां अनूदित किए गए हैं. साथ में दी गई तस्वीर गूगल से.]

एक लम्हा अपना हाथ ही मेरे माथे पर रख दो


एक चिड़िया कमरे में आई.

क्या तकलीफ़ से कुछ वक्फे के लिए निजात मिल सकती है, मेरा मतलब है कुछ लम्बे वक़्त के लिए ?

कितना कष्टकर हूँ मैं आपके लिए... मेरी तकलीफ़ इससे और बढ़ जाती है कि मेरी वजह से परेशान होने के बावजूद आप सब मेरे प्रति कितने सदय हैं ! इन मायनों में हॉस्पिटल कितनी अच्छी जगह है.

आप कितने बरस मेरे साथ यों रहेंगे ? कितने बरस आपके इस तरह होने के साथ मैं रह पाउँगा ?

आप तो जानते हैं, एक तालाब कहीं बह नहीं सकता.

डाल से हिलग गए फूलों से बिलकुल फ़र्क बर्ताव करना चाहिए.

नित्य वसंत कहां है ?

क्या अमलतास दिखेगा ?

भय और भय.

बहुत सारा बलगम आया, फिर भी सुबह तकलीफ़ रही. सदमे में यह तकलीफ़ इस आसानी से मेरे दिमाग में घर कर गई मानो मुझे नोबेल से नवाज़ा गया हो.

एहतियात बरतो, मेरा कफ़ कहीं तुम्हारे चेहरे पर न पड़ जाए.

अगर इतना ही दर्द और कफ़ रहा तो मैं जो थोड़ा-बहुत खा पा रहा हूँ, वह भी छूट जाएगा.

यह ( कमरे में आई मक्खी ) हमारी तरह खा नहीं सकती, सो इसे कोई तकलीफ़ भी नहीं. क्या यह कमरे में लौट कर आना चाहती है ?

दिक्कत यह है कि मैं एक ग्लास पानी तक नहीं पी सकता, हालाँकि एक ग्लास पानी पी सकूँगा, ऐसी लालसा ही मुझे तृप्त कर देती है.

मेरी देह अब इतनी विषाक्त हो चुकी है कि फलों का स्वाद कैसा होता है, इसे नहीं मालूम.

बद को बद रहने दो नहीं तो वह बदतर हो जाएगा.

मेरी हौसला अफजाई के लिए एक लम्हा अपना हाथ ही मेरे माथे पर रख दो.

एक दफ़ा मुझे उसके ( प्रेमिका के ) संग बाल्टिक जाना था, लेकिन तब तक मैं अपने दुबले होने और दूसरी चिंताओं से उबर नहीं पाया था.

अपनी मृत्यु में लायलक कितना सुन्दर है, पीता-घूमता.

यह नहीं हो सकता न कि एक मरता हुआ आदमी पिये !

शायद एक हफ्ते और टिकूं...मुझे तो उम्मीद बंधती है.

कुछ वक्फ़े की ख़ामोशी मुझे ख़ुश बना देती है.

अगर कोई खास मुद्दा न हो तो बातचीत के कई लिए कई विषय सूझते हैं.

अब मैं इसे ( अपनी पाण्डुलिपि ) पढ़ना चाहता हूँ. बहुत संभव है यह मुझे खीज से से भर दे, तब भी मुझे अपने लिखे हुए से एक दफा और गुजरना चाहिए.

किसने फ़ोन किया ? क्या मैक्स ( ब्रॉड ) था ?

आखिरकार मदद ( डॉक्टर ) भी बिना मदद चल दिए.

बिस्मार्क के भी डॉक्टर थे. उन्होंने भी बहुत कोशिश की.
****

                                                                                                                            अनुवाद : अनुराग वत्स 


9 comments:

मृत्यु का दार्शनिक चित्रण


काफ्का का अकेलापन,अवसाद और भय भी कलात्मक तरीके से समने आता है. एक तालाब कहीं बह नहीं सकता.डाल से हिलग गए फूलों से बिलकुल फ़र्क बर्ताव करना चाहिए.नित्य वसंत कहां है ?क्या अमलतास दिखेगा ?भय और भय.मानो हम स्वयंमौत के रूबरू हों.फैज़ के जीवन पर आधारित नाटक कुछ इश्क किया कुछ काम किया में मौत की सजा सुनाये गए कैदी जेल में चींटियों और मक्खियों को गिनते रहते हैं और उन्हें नाम तक दे देते हैं.अंतिम समय में बाह्य जगत से अलग थलग पड जाने पर अत्यधिक एकांत सिर्फ आसन्न मृत्यु पर ही सोचने को बाध्य कर देता है.


काफ्का का अनूठा गद्य. और लिखे गए वक्त का सन्दर्भ इन टुकड़ों को बेहद द्वंद्वात्मक बना देता है. मृत्यु और जिंदगी...

एक स्त्री और मौत की तरफ निहारते एक 'कमजोर' का दुःख-

"मेरी हौसला अफजाई के लिए एक लम्हा अपना हाथ ही मेरे माथे पर रख दो."

परवीन शाकिर याद आयीं-

"उसने जलती हुई पेशानी पे जब हाथ रखा
रूह तक आ गयी तासीर मसीहाई की


बेहतरीन अनुवाद..एक तालाब जो बह नहीं सकता ..एक भय जो जा नहीं पाता,विषाद और खत्म होने के समूचेपन के आगत की आहट .. एक तालाब जो बह नहीं सकता


कोई अपनी मृत्यु में भी कितनी खूबसूरत चीजों से भरा होता है ये बात चकित करती है...
सोचो किसी का कहना...कि अमलतास दीखेगा!
एकदम अद्भुत है!

Sublime...beautifully poignant!


ज़िंदगी असंख्य प्रश्नों का नाम है जिसे मनुष्य भिन्न २ तरीकों से ताउम्र हल करने के लिए संघर्षरत रहता है और उन असंख्य प्रश्नों का सिर्फ एक उत्तर होता है म्रत्यु ,जहां सारे प्रश्नों का पटाक्षेप हो जाता है|
''अब मैं इसे ( अपनी पाण्डुलिपि ) पढ़ना चाहता हूँ. बहुत संभव है यह मुझे खीज से से भर दे, तब भी मुझे अपने लिखे हुए से एक दफा और गुजरना चाहिए ''|अकेलेपन और बीमारी के अवसाद और दूर होते जीवन और मौत की आहट के बीच से गुजरते हुए ये वाक्य .....|
इटली के कवि साल्वाटर काजिमोदो,(And Suddenly it is evening),और (Life is now dream )कविता संग्रह ,अर्नेस्ट हेमिंग्वे, ‘’द स्नोज़ ऑफ किलिमंजारो ,(म्रत्यु शैया का वर्णन ),सेम्युअल बेकेट “”वोटिंग फॉर गोदोत””,आदि लेखकों ने भी इस अहसास को किसी रूप में जिया था
बहुत अद्भुत चीज़ का बहुत अच्छा अनुवाद .....शुक्रिया अनुराग


इन छोटी छोटी पंक्तियों में समाये दर्शन को नमन!


सबद से जुड़ने की जगह :

सबद से जुड़ने की जगह :
[ अपडेट्स और सूचनाओं की जगह् ]

आग़ाज़


सबद का प्रकाशन 18 मई 2008 को शुरू हुआ.

संपादन : अनुराग वत्स.

पिछला बाक़ी

साखी


कुंवर नारायण / कृष्‍ण बलदेव वैद / विष्‍णु खरे / चंद्रकांत देवताले / राजी सेठ / मंगलेश डबराल / असद ज़ैदी / कुमार अंबुज / उदयन वाजपेयी / हृषिकेश सुलभ / लाल्‍टू / संजय खाती / पंकज चतुर्वेदी / आशुतोष दुबे / अजंता देव / यतींद्र मिश्र / पंकज मित्र / गीत चतुर्वेदी / व्‍योमेश शुक्‍ल / चन्दन पाण्डेय / कुणाल सिंह / मनोज कुमार झा / पंकज राग / नीलेश रघुवंशी / शिरीष कुमार मौर्य / संजय कुंदन / सुंदर चंद्र ठाकुर / अखिलेश / अरुण देव / समर्थ वाशिष्ठ / चंद्रभूषण / प्रत्‍यक्षा / मृत्युंजय / मनीषा कुलश्रेष्ठ / तुषार धवल / वंदना राग / पीयूष दईया / संगीता गुन्देचा / गिरिराज किराडू / महेश वर्मा / मोहन राणा / प्रभात रंजन / मृत्युंजय / आशुतोष भारद्वाज / हिमांशु पंड्या / शशिभूषण /
मोनिका कुमार / अशोक पांडे /अजित वडनेरकर / शंकर शरण / नीरज पांडेय / रवींद्र व्‍यास / विजय शंकर चतुर्वेदी / विपिन कुमार शर्मा / सूरज / अम्बर रंजना पाण्डेय / सिद्धान्त मोहन तिवारी / सुशोभित सक्तावत / निशांत / अपूर्व नारायण / विनोद अनुपम

बीजक


ग़ालिब / मिर्जा़ हादी रुस्‍वा / शमशेर / निर्मल वर्मा / अज्ञेय / एम. एफ. हुसैन / इस्‍मत चुग़ताई / त्रिलोचन / नागार्जुन / रघुवीर सहाय / विजयदेव नारायण साही / मलयज / ज्ञानरंजन / सर्वेश्‍वर दयाल सक्‍सेना / मरीना त्‍स्‍वेतायेवा / यानिस रित्‍सोस / फ्रान्ज़ काफ़्का / गाब्रीयल गार्सीया मारकेस / हैराल्‍ड पिंटर / फरनांदो पेसोआ / कारेल चापेक / जॉर्ज लुई बोर्हेस / ओक्टावियो पाज़ / अर्नस्ट हेमिंग्वे / व्लादिमिर नबोकोव / हेनरी मिलर / रॉबर्टो बोलान्‍यो / सीज़र पावेसी / सुजान सौन्टैग / इतालो कल्‍वीनो / रॉबर्ट ब्रेसां / उम्बेर्तो ईको / अर्नेस्‍तो कार्देनाल / ज़बिग्नियव हर्बर्ट / मिक्‍लोश रादनोती / निज़ार क़ब्‍बानी / एमानुएल ओर्तीज़ / ओरहन पामुक / सबीर हका / मो यान / पॉल आस्‍टर / फि़राक़ गोरखपुरी / अहमद फ़राज़ / दिलीप चित्रे / के. सच्चिदानंदन / वागीश शुक्‍ल/ जयशंकर/ वेणु गोपाल/ सुदीप बैनर्जी /सफि़या अख़्तर/ कुमार शहानी / अनुपम मिश्र

सबद पुस्तिका : 1

सबद पुस्तिका : 1
भारत भूषण अग्रवाल पुरस्‍कार के तीन दशक : एक अंशत: विवादास्‍पद जायज़ा

सबद पुस्तिका : 2

सबद पुस्तिका : 2
कुंवर नारायण का गद्य व कविताएं

सबद पुस्तिका : 3

सबद पुस्तिका : 3
गीत चतुर्वेदी की लंबी कविता : उभयचर

सबद पुस्तिका : 4

सबद पुस्तिका : 4
चन्‍दन पाण्‍डेय की कहानी - रिवॉल्‍वर

सबद पुस्तिका : 5

सबद पुस्तिका : 5
प्रसन्न कुमार चौधरी की लंबी कविता

सबद पुस्तिका : 6

सबद पुस्तिका : 6
एडम ज़गायेवस्‍की की कविताएं व गद्य

सबद पुस्तिका : 7

सबद पुस्तिका : 7
बेई दाओ की कविताएं

सबद पुस्तिका : 8

सबद पुस्तिका : 8
ईमान मर्सल की कविताएं

सबद पुस्तिका : 9

सबद पुस्तिका : 9
बाज़बहादुर की कविताएं - उदयन वाजपेयी

सबद पोएट्री फि़ल्‍म

सबद पोएट्री फि़ल्‍म
गीत चतुर्वेदी की सात कविताओं का फिल्मांकन

सबद फिल्‍म : प्रेम के सुनसान में

सबद फिल्‍म : प्रेम के सुनसान में
a film on love and loneliness

सबद पोएट्री फिल्‍म : 3 : शब्‍द-वन

सबद पोएट्री फिल्‍म : 3 : शब्‍द-वन
किताबों की देहरी पर...

गोष्ठी : १ : स्मृति

गोष्ठी : १ : स्मृति
स्मृति के बारे में चार कवि-लेखकों के विचार

गोष्ठी : २ : लिखते-पढ़ते

गोष्ठी : २ : लिखते-पढ़ते
लिखने-पढ़ने के बारे में चार कवि-लेखकों की बातचीत

सम्‍मुख - 1

सम्‍मुख - 1
गीत चतुर्वेदी का इंटरव्‍यू

अपवाद : [ सबद का सहोदर ] :

अपवाद : [ सबद का सहोदर ] :
मुक्तिबोध के बहाने हिंदी कविता के बारे में - गीत चतुर्वेदी